🕉 करंट अफेयर्स के प्रश्न डेली मार्निंग में 04:00am-06:00am के बीच अपडेट किया जाता है, GK एवं अन्य अपडेट दिन में किया जाता है, हमें उम्मीद है आप सबकी तैयारी अच्छे से हो रही होगी, हमारा पूरा प्रयास है सभी स्टूडेंट की सहायता करना इसमे आप भी मदद करे और TaiyariNews.Com के बारे में अपने दोस्तों से भी बताये l 🕉
 

विश्व पर्यावास दिवस (अक्टूबर माह का प्रथम सोमवार)


इसे भी जरुर देखें :-

विश्व पर्यावास दिवस कब मनाया जाता है?

प्रत्येक वर्ष अक्टूबर महीने के पहले सोमवार को विश्व पर्यावास दिवस मनाया जाता है। वर्ष 1985 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अक्टूबर में प्रथम सोमवार को हर साल विश्व पर्यावास दिवस को मनाने की घोषणा की थी।

विश्व पर्यावास दिवस 2019:

इस साल 07 अक्टूबर, सोमवार को विश्व पर्यावास दिवस मनाया जायेगा। जिसमें पिछले वर्ष 2018 दुनिया भर के कुछ 80 शहरों ने वर्ल्ड हैबिटेट डे को चिह्नित करने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए थे।इस वर्ष की थीम “फ्रंटियर टेक्नोलॉजीज को कचरे को धन में बदलने के लिए एक अभिनव उपकरण के रूप में” है

विश्व पर्यावास दिवस का इतिहास:

वर्ष 1986 में पहली बार  विश्व पर्यावास दिवस का आयोजन किया गया था, जबकि इस दिवस का मूल उद्देश्य “आवास मेरा अधिकार है” था। इस आयोजन का स्थल नैरोबी शहर था। इसके अलावा इस आयोजन के निम्नलिखित उद्देश्य भी रहे-

  • बेघर के लिए आश्रय (1987)
  • हमारा पड़ोस (1995)
  • भविष्य के शहर (1997)
  • सुरक्षित शहर (1998)
  • शहरी शासन में महिला (2000)
  • शहरों के लिए पानी और स्वच्छता (2001)
  • शहरों के बिना मलिन बस्तियों (2003)

विश्व पर्यावास दिवस का उद्देश्य:

इस वर्ष विश्व पर्यावास दिवस का मूल उद्देश्य सतत विकास लक्ष्य समावेशी, सुरक्षित, लचीला और स्थायी शहरों को प्राप्त करने के लिए स्थायी अपशिष्ट प्रबंधन के लिए नवीन सीमांत प्रौद्योगिकियों के योगदान को बढ़ावा दे रहा है। वर्ल्ड इकोनॉमिक एंड सोशल सर्वे 2018 के अनुसार, सीमांत प्रौद्योगिकियां लोगों के काम करने और रहने के साथ-साथ सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने और जलवायु परिवर्तन के समाधान के प्रयासों में तेजी लाने के लिए काफी संभावनाएं रखती हैं।इसके अलावा गरीबी को समाप्त करने और उसमें सुधर करने के लिए जमीनी स्तर पर कार्रवाई के लिए प्रोत्साहित करना है। वर्ष 2016 में इस दिवस का मुख्य विषय-“केंद्र में आवास” था।

 

विश्व पर्यावास दिवस के बारे में कुछ तथ्य:

  • विश्व पर्यावास दिवस एक वैश्विक अनुपालन है ना कि एक सार्वजनिक अवकाश है।
  • हर साल यूएन हैबिटेट प्रतिवर्ष के लिए निर्धारित थीम को प्रचार-प्रसार करने और पर्यावास को बढ़ावा देने के सन्दर्भ में जागरूकता को बढ़ाने के लिए गतिविधियों का आयोजन करता है, जिसमें हिस्सा लेने के लिए केंद्र सरकार, स्थानीय सरकार, नागरिक समाज, निजी क्षेत्र और मीडिया उसके सहयोगियों के रूप में कार्य करते हैं।
  • ‘पर्यावास स्क्रॉल ऑफ ऑनर’ पुरस्कार, संयुक्त राष्ट्र के मानव बस्ती कार्यक्रम (यूएनएचएसपी) द्वारा वर्ष 1989 से शुरू किया गया था। इस पुरस्कार को दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित मानव बस्ती पुरस्कार के तौर पर माना जाता है। इस पुरस्कार का मूल उद्देश्य ऐसे कार्यों को प्रारंभ करना है जो संघर्षरत और बेघर लोगों की पीड़ा को न केवल समझ सके बल्कि उन्हें दूर भी कर सके। इसके अलावा मानव बस्तियों के पुनर्निर्माण में सहयोग कर सके और शहरी जीवन की गुणवत्ता के विकास में सहयोग दे सके।

विविध तथ्य:

संयुक्त राष्ट्र पर्यावास मिशन के अंतर्गत विविध तथ्य समाहित होते हैं, जैसे-

  • सभी के लिए सुरक्षित और स्वस्थ रहने वाले पर्यावरण का विकास विशेष रूप से बच्चों के लिए।
  • पर्याप्त और टिकाऊ परिवहन और ऊर्जा।
  • शहरी क्षेत्रों में हरियाली की स्थापना और पौधरोपण की व्यवस्था।
  • शुद्ध और सुरक्षित पीने के पानी के साथ ही स्वच्छता।
  • सांस लेने के लिए ताजा और प्रदूषण से रहित हवा।
  • लोगों के लिए पर्याप्त रोजगार के अवसर।
  • झुग्गी में रहने वाले लोगो में सुधार और शहरी योजना में वृद्धि।
  • अपशिष्ट पदार्थ की पुनरावृत्ति सहित बेहतर कचरा प्रबंधन।

अपने दोस्तों से शेयर जरुर करे :-


 इसे भी देखें :-

हैलो स्टूडेंट हमें उम्मीद है आपको हमारा यह पोस्ट "विश्व पर्यावास दिवस (अक्टूबर माह का प्रथम सोमवार)" जरुर पसंद आया होगा l हम आपके लिए ऐसे ही अच्छे - अच्छे पोस्ट रोज लिखते रहेंगे l अगर आपको वाकई मे हमारा यह पोस्ट जबर्दस्त लगा हो तो अपने दोस्तों शेयर करना ना भूलेl

अपने फेसबुक पर लेटेस्ट अपडेट सबसे पहले पाने के लिए Taiyari News पेज जरुर Like करे l


इसे भी पढ़े :


Disclaimer : Taiyari News claim this post, that we made and examined. We giving the effectively content on web. In the event that any way it abuses the law or has any issues then sympathetically mail us : [email protected]