करंट अफेयर्स के प्रश्न डेली मार्निंग में 04:00am-06:00am के बीच अपडेट किया जाता है, GK एवं अन्य अपडेट दिन में किया जाता है, हमें उम्मीद है आप सबकी तैयारी अच्छे से हो रही होगी, हमारा पूरा प्रयास है सभी स्टूडेंट की सहायता करना इसमे आप भी मदद करे और TaiyariNews.Com के बारे में अपने दोस्तों से भी बताये l
 

महाकवि कालिदास का जीवन परिचय - Mahakavi Kalidas Biography In Hindi


इसे भी जरुर देखें :-

संस्कृत भाषा के विश्वविख्यात कवि और नाटककार कालिदास के व्यक्तिगत जीवन के सम्बन्ध में निश्चित सुचना उपलब्ध नहीं हैं. उन्हें लोग बंगाल , उड़ीसा, मध्य प्रदेश या कश्मीर का निवासी बताते हैं. उनकी रचनाओं के आधार पार सामान्य मत उन्हें मध्य प्रदेश के उज्जेन का निवासी मनाने के पक्ष में हैं. ‘कुमार संभव‘ नमक काव्य ग्रन्थ का पूरा परिवेश हिमालय हैं. अन्य रचनाओं में भी स्थान-स्थान पर हिमालय का सजीव वर्णन पाया जाता हैं. इसके आधार पर कुछ विद्धानो का मत हा की कदाचित कालिदास का जन्म हिमालय प्रदेशमें हुआ. पर काव्य रचना उन्होंने उज्जैन या उज्जैनी में रहकर ही की. उनकी समाया के सम्बन्ध में भी बड़ा विवाद हैं. भिन्न – भिन्न विधान उनका काल ईसा पूर्व दूसरी शती से सातवीं शती ईसवीं मानते हैं. बहुमत उन्हें गुप्त वंश के शासनकाल का मानता हैं. लोक-परंपरा कालिदास को 56 ईसवीं पूर्व के किसी विक्रमादित्य के नवरत्नों में बताती हैं. परन्तु इसका कोई एतिहासिक आधार नहीं हैं. सामान्य मत से उनकी जन्म तिथि 365 ईस्वी के आसपास मानी जाती हैं. कालिदास की सात रचनाएं प्रसिद्द हैं. ‘अभिज्ञान-शाकुंतलम’, ‘विक्रमोर्यव-शियम’ और मालविकाग्निमित्र’ (नाटक) ‘रघुवंश’. ‘कुमार संभव’ और ऋतूसंहार’ (काव्य ग्रन्थ).

अभिज्ञान्शाकुंतलम की गाड़ना विश्व साहित्य की सर्वोत्तम कृतियाँ में होती हैं. इसमें कालिदास ने महाभारत की तथा को अपनी प्रतिभा से नया रूप दिया हैं’ विक्रमोर्यवशियम का कथानक पुरुर्र्वा और उर्वशी से सम्बंधित है और ये ऋग्वेद पर आधारित हैं. ‘मालविकाग्निमित्र’ में शुंग वंश के राजा अग्निमित्र और उसकी प्रेयसी मालविका की प्रणय गाथा हैं. माहाकव्य रघुवंश में सूर्यवंशी राजाओं की वुरुदावली में उमा और शिव के विवाह , कुमार कार्तिकेय के जन्म और तारकासुर के बढ की तथा है.

मेघदूत में विरहाकुल रक्ष मेघो के माध्यम से अपनी प्रेयसी को सन्देश भेजता हैं’ ऋतुसंहार’ में जिसे कवि की प्रथम रचना माना जाता हैं. कालिदास ने विभिन्न ऋतुओं में प्रेमी प्रेमिकाओं के मधुर मिलन का वर्णन किया हैं. कालिदास के साहित्य में अनेक विशेषताएं हैं. उन्होंने अपने समाया तक प्रचलित सभी शेलिओं की रचना की. उनकी भाषा सहज , सुन्दर और सरल हैं. अपनी रचनाओं में उन्होंने प्राय: सभी रसो का वर्णन सफलतापूर्वक किया हैं. उपमा के तो वे संस्कृत साहित्य में आद्वित्य कवि माने जाते हैं.

‘उपमा कालिदासस्य’ पद का प्रयोग इसी में मुहावरे की भाँती होता हैं. उनके ग्रंथों में तत्कालीन भारत की सामाजित और शासकीय व्यवस्था, भूगोल , पशु-पक्षी , वनस्पति आदि का वर्णन स्थान-स्थान पर मिलता हैं. कालिदास की कृतियाँ का संसार की अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ हैं. कालिदास के सम्बन्ध में कई अविश्वसनीय कथाएँ प्रचलित हैं. एक के अनुसार वे निपट मुर्ख थे और जंगल में पेड़ की उसी डाल को काट रहे थे जिस पर बेठे थे. उनके पंडितों के वर्ग ने देखा . ये पंडित विघोत्त्मा नाम की विदुषी राजकुमारी से शास्त्रार्थ में पराजित होकर आए थे. उन्होंने धोखे से कालिदास का विवास विघोत्त्मा से करा दिया. जब विघोत्त्मा को उनके मुर्ख होने का पता चला, तो उसने कालिदास को यह कहकर निकाल दिया की मुझसे अधिक विद्दान बनने पर ही घर में प्रवेश मिल सकता हैं. अपमानिक कालिदास ने काली के मंदिर में कठिन तपस्या की और देवी के वरदान से वे शीघ्र परम विद्दान बनने गए. यहाँ भी कहा जाता हैं की काली की इस कृपा के बाद ही उन्होंने अपना कालिदास रखा था.


महत्वपूर्ण नोट्स हिंदी में (इसे जरुर देखें) :- कंप्यूटर से सम्बंधित जानकारी (इसे जरुर देखें) :- जनरल नॉलेज GK हिंदी में (इसे जरुर देखें) :-

हैलो स्टूडेंट हमें उम्मीद है आपको हमारा यह पोस्ट "महाकवि कालिदास का जीवन परिचय - Mahakavi Kalidas Biography In Hindi" जरुर पसंद आया होगा l हम आपके लिए ऐसे ही अच्छे - अच्छे पोस्ट रोज लिखते रहेंगे l अगर आपको वाकई मे हमारा यह पोस्ट जबर्दस्त लगा हो तो अपने दोस्तों शेयर करना ना भूलेl

अपने फेसबुक पर लेटेस्ट अपडेट सबसे पहले पाने के लिए Taiyari News पेज जरुर Like करे l

अब आप करंट अफेयर्स, जीके एवं सरकारी नौकरी की तैयारी से सम्बंधित सभी बुक पीडीऍफ़ को बड़े आसानी से एक साथ हमारे टेलीग्राम चैनल Join Our Telegram Group से डाउनलोड कर सकते है l


अपने फेसबुक पर सरकारी नौकरी की जानकारी, तैयारी, बुक्स इत्यादि के लिए अपने मनपसंद फेसबुक ग्रुप लिंक पर क्लिक कर के ग्रुप join कर सकते हैं l हम किसी भी ग्रुप के एडमिन नहीं हैं अथवा हमारा किसी भी फेसबुक ग्रुप से कोई सम्बन्ध नहीं है:


इसे भी पढ़े :


Disclaimer : Taiyari News claim this post, that we made and examined. We giving the effectively content on web. In the event that any way it abuses the law or has any issues then sympathetically mail us : [email protected]